News

We’re proud of the thousands of trees we have been responsible for planning through donations to Trees for the Future . Here’s a look at why we think that trees are important at Clean Air Gardening, and why we’ll continue planting more of them.

Planting trees in your neighborhood really is one of the best things you can do for the local environment and for the planet. It’s no secret that trees help the environment, but you may be surprised by all the benefits that planting trees can provide. Besides producing oxygen and removing carbon dioxide and contaminants from the air, trees have many other social, economic, and environmental benefits.
Trees are like the lungs of the planet. They breathe in carbon dioxide and breathe out oxygen. Additionally, they provide habitat for birds and other wildlife. But that’s not all trees do for us! To see just how much trees are essential to the planet and to humans, let’s look at the following statistics:

Marriage and raising a family can be hard and tiring and frustrating. It takes a lot of work to live happily ever after. However, the more we understand ourselves, the better we can communicate, and foster successful relationships with the people we care about.

Swap stories and life experiences with others from our marriage family support group. Many have found that in addition to marriage & family therapy, sharing stories and meeting others with similar challenges can be helpful.

Lakshmi escapes abuse from her own sons and finds a safe home

Lakshmi lived with her parents in Kolkata. She belonged to an impoverished family. As they were hardly able to make ends meet, they decided that the best way forward for Lakshmi was to get her married.

She was married off at the tender age of 15 to a daily wage laborer.

Unfortunately, her husband got addicted to alcoholism and ended up spending most of his earnings on alcohol. She had two sons and two daughters from the marriage. The complete responsibility of raising her children was on her.

She raised her children with a lot of struggle and got them married. Her daughter left for their marital home and her sons started taking care of their own families.

When Lakshmi’s husband passed away, she went to live with her sons. However, they didn’t want her burden. They did not take care of her nor did they give her enough food or clothes. She suffered all of that in silence.

However, they soon started to abuse her physically, she then left home and came to Vrindavan.

She began to beg for food in Vrindavan. While she was on the streets on Vrindavan, a project Jeevan team member found her.

Ever since she has found a place to call home. She is not scared of shivering in the cold during winter. She knows she has a warm and clean shelter. She receives new clothes twice a year and has access to primary health care.

Although she still misses her family, Lakshmi is grateful to Maitri for providing her with a safe place to live and clean clothes during her old age.

Without the help of Maitri, Lakshmi would have been begging on the streets for basic sustenance.

You can also help poor elderly widows get access to basic clothing and winter wear. You can donate so that they can live their golden years in peace. You can give with confidence because every program listed

Rupali is now a role-model for her entire community!

Rupali is an 18-year-old girl with four sisters from a poor family in Uttar Pradesh. Her father, who was the sole breadwinner of the family, passed away in 2014. The family was devastated and did not know how to move forward after the tragedy.

Their lives became harder when her aunts tried to take their home and property away. Since they did not have a boy in the household, the extended family told them that none of the girls were entitled to the property. But Rupali was not willing to give up.

She decided to step up and do something to help her mother and four sisters. She began a tailoring business from her home to earn some money. With the money that came in, she was able to go to college and provide for her family.

Every monthly donation helps educate more kids like Barani

Isha Vidhya schools work with the education of children in the villages across Tamil Nadu. Baranitharan’s father was a laborer who passed away due to a heart attack. His mother couldn’t work as she had an infant to take care of.

With the shock of the sudden death of her husband, she became ill. Baranitharan was forced to discontinue school to look after his siblings. Isha foundation counseled his mother to send him to school promising help for his education. With good education and nutritious food, he has developed into a bright and happy child. Today Baranitharan is in 2nd grade and has hopes of a better life.

All a helpless child needs to secure his future is a little help from a generous donor.

Beneficiaries under this program

Following are the beneficiaries awaiting support. Please note that you cannot select the person you wish to support as we maintain a randomized process to ensure fairness in beneficiary allocation.

The doctors who give Madhavi a new lease of life

Madhavi was abandoned when she was just 2 weeks old in the cradle outside the gates of Palna.

She was immediately taken to the Medical Crisis unit for a preliminary examination. The examination revealed that she was small for gestational age. She weighed less than 3lb. She was dehydrated and lethargic. She was suffering from hypoglycemia – deficiency of glucose, hypocalcemia – deficiency of calcium, and a urinary tract infection with sepsis. The doctors and medical staff at Palna worked hard to save her.

As she improved, nasogastric feeding was started with IV fluid. In the following months she recovered fully and moved to an oral full feed

Education is both the means as well as the end to a better life: the means because it empowers an individual to earn his/her livelihood and the end because it increases one’s awareness on a range of issues – from healthcare to appropriate social behaviour to understanding one’s rights – and in the process help him/her evolve as a better citizen.

Doubtless, education is the most powerful catalyst for social transformation. But child education cannot be done in isolation. A child will go to school only if the family, particularly the mother, is assured of healthcare and empowered. Moreover, when an elder sibling is relevantly skilled to be employable and begins earning, the journey of empowerment continues beyond the present generation

=======

प्रिय सर/मेडम
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ये चैनल “SPL LIVE LEARNING” स्पेशल चाइल्ड वेलफेयर आर्गेनाइजेशन का है और ये एक समाज सेवी संस्था है, हमारी संस्था का उद्देश्य ऐसे लोगों की सहायता करना है जो गरीब या बेरोजगार है और घर बैठे पैसे कमाना चाहते है, ऐसे लोग हमारे साथ अपने मोबाइल से काम करके अच्छा पैसा अपने घर से ही कमा सकते है, हमारे साथ काम करना बहुत ही आसान है और कोई भी कर सकता है, ये संस्था सभी की है और कोई भी इसका मालिक नहीं है, काम क्या करना है और कैसे करना है की पूरी जानकारी आपको SPL LIVE LEARNING YouTube चैनल की विडियो में मिल जायेगी, इसलिए अगर आप भी घर बैठे पैसे कमाना चाहते है तो इस चैनल की विडियो को एक-एक करके देखना शुरू कर दीजिये जिससे आपको पूरी जानकारी भी मिल जायेगी और आप काम करना भी सीख जायेंगे और एक बात आपको बता दें 1 जनवरी 2017 से 31 जुलाई 2019 तक कोई भी व्यक्ति संस्था ( स्पेशल चाइल्ड वेलफेयर आर्गेनाइजेशन ) के साथ काम करके घर बैठे पैसे कमा सकता था, लेकिन दिनांक 1 अगस्त 2019 से कोई भी ऐसा व्यक्ति हमारे साथ काम नहीं कर सकता है जो संस्था का मेम्बर ना हो !! इसलिए अगर आप स्पेशल चाइल्ड वेलफेयर आर्गेनाइजेशन के मेम्बर है तो अपना मेम्बरशिप नंबर अपनी प्रत्येक मेल के साथ में भेजे !

यदि आपने मेम्बरशिप फीस जमा कर दी है और आपको मेम्बरशिप नंबर नहीं मिला है तो नीचे दिए गए फॉर्म के अनुसार अपनी डिटेल्स splcwo@gmail.com पर भेजे !
अगर आप अपनी सभी डिटेल्स सही – सही भेजते है तो आपको जल्दी ही मेम्बरशिप नंबर मिल जायेगा और फिर आप हमारे साथ काम कर पायेंगे !! और यदि अभी तक आपने अपनी मेम्बरशिप फीस जमा नहीं की है तो आप संस्था की वेबसाइट : https://www.splcwo.org/ पर जाकर देखें की अभी मेम्बरशिप फीस कितनी है और उसको जल्द से जल्द जमा कर अपनी डिटेल्स नीचे दिए फॉर्मेट में भेजे, जिससे आपका मेम्बरशिप में रजिस्ट्रेशन होकर आपका मेम्बरशिप नंबर आपको मिल सके ! धन्यवाद !

Direct Form Download Link : https://drive.google.com/open?id=1yabP3KDN-yglVSbDsRTUJLTud1LXBaI7

हमारे साथ जुड़ें, नाम और पैसा दोनों कमाएँ!
आज लाखों लोग हमारे साथ जुड़कर ऑनलाइन और ऑफलाइन अपने घर बैठे पैसे कमा रहे है !!
हमारे साथ केबल संस्था “स्पेशल चाइल्ड वेलफेयर आर्गेनाइजेशन ” के मेम्बर्स ही काम कर सकते है !!
अगर आप मेम्बर नहीं है तो आज ही मेम्बरशिप लें और नीचे दिए लिंक से मेम्बरशिप फॉर्म डाउनलोड करके भरें और संस्था की मेल आईडी splcwo@gmail.com पर भेज दें !!
मेम्बरशिप फॉर्म के लिए यहाँ क्लिक कीजिये
आजीवन मेम्बरशिप फीस मात्र रु०1000/-
संस्था के खाते में ट्रान्सफर करें, कैश जमा ना करें !!
अपना ट्रांजेक्शन / रिफ़रेंस नंबर / स्क्रीन शॉट अपने पास जरूर रखें !!
Lifetime Membership Fee
Rs. 1000/- Only.
A/C NO. 027405005261
BANK – ICICI BANK LTD.
IFSC CODE – ICIC0000274
BRANCH – MATHURA (UP)

अधिक जानकारी के लिए आप नीचे दिए लिंक को क्लिक कीजिये, जिसमें फॉर्म दिया हुआ है उसको डाउनलोड करके पूरा भरकर तुरंत भेजिए :
https://www.splcwo.org/membership-form-and-fees-structure/

फॉर्म भरने की पूरी जानकारी के लिए नीचे दिए विडियो को पूरा ध्यान से देखिये, जो चीज आपके पास ना हो उस कॉलम खली छोड़ दीजिये. मेम्बरशिप फीस डिटेल्स भरना जरूरी है !

https://www.youtube.com/watch?v=qZ8d-PTm3ds

अमीर कैसे बनें फुल गाइड : https://www.youtube.com/watch?v=LIg2zEBPGj0&list=PL13T6OfTkt2mBJFWcNPky55t3xOKTwEzN

घर बैठे जॉब फुल जानकारी : https://www.youtube.com/watch?v=0CgZr3Ex0rI&list=PL13T6OfTkt2lLhhmlfeEUMqgmfci9CdwM&index=2&t=0s

=======

कोई ऐसा इंसान बताओ जो एक लाख से कम कमाता हो और एक लाख ले जाओ ?

जी हाँ दोस्तों, अगर आपकी नजर में ऐसा कोई इन्सान है| जिसकी महीने की इनकम एक लाख से कम है तो आपको भी 1 लाख रुपये मिल सकता है |

लेकिन अब सवाल है, की कोई आपको एक लाख रुपये क्यों देगा और कौन देगा ?
तो चलिए आपको बता देंते है की कहाँ से मिलेगा और कौन देगा आपको एक लाख रुपये ?

 

https://youtu.be/4592TCWbIDE

दोस्तों, मेरा नाम है मानसी गुप्ता और India’s No.1, YouTube Channel “SPL LIVE LEARNING” मैं आपका स्वागत है !

जैसा कि आप सभी जानते है, ये चैनल “SPL LIVE LEARNING” जो कि देश की नं0 1. संस्था “स्पेशल चाइल्ड वेलफेयर आर्गेनाइजेशन” द्वारा संचालित YOUTUBE CHANNEL है और इसके संस्थापक “माननीय श्री सत्यपाल सिंह” जी ने जब ये चैनल शुरू किया था. तो इस चैनल को सब्सक्राइब करने वाले लोगो से ( यानी की इस चैनल के साथ जुड़ने वाले लोगो से ) एक वादा किया था, कि अगर आप “SPL LIVE LEARNING” चैनल को Subscribe कर लेते है, तो आप इसके मालिक बन जाते है और आप आज से ही इस चैनल के साथ काम कर सकते है | और अगर आप हर दिन अपने मोबाइल से 1 घंटा भी काम करते है, तो आपको महीने का 1 लाख रुपये या उससे ज्यादा मिलेगा !

और यही विडियो मैंने देखा था और मैं इस चैनल के साथ जुड़ गयी थी और मैंने इस चैनल के साथ केबल इतना काम किया कि “इस चैनल की सभी विडियो को पूरा देखा, समझा और विडियो में जो काम करने के लिए बोला वो काम पूरा किया” क्योंकि “S P SINGH SIR” काम ही ऐसा बताते है जिसको तो कोई भी कर सकता है | मुझे नहीं लगता कि पूरी दुनियां में ऐसा कोई इंसान, बच्चा, लड़की या औरत होगी जो “S P SINGH SIR” द्वारा बताया हुआ काम पूरा ना कर सके | और आज इस चैनल से मेरी महीने की इनकम जितना “S P SINGH SIR” ने बोला था उससे कई गुना ज्यादा है |

यानी की “S P SINGH SIR” ने बोला था, कि आपको 1 लाख या उससे ज्यादा मिलेगा | लेकिन अभी मुझे इस चैनल से जुड़ें हुए दूसरा साल चल रहा है और मेरी महीने की इनकम 5 लाख रुपये से अधिक होती है | मैं कभी कभी सोचती हूँ कि 10 साल बाद मेरी इनकम कितनी हो जायेगी | कहीं मैं पागल ना हो जाऊँ | बिना मेहनत के इतना पैसा भी कमाया जा सकता है | ये सोच – सोच कर |
तो मैं, इस विडियो में ऐसे किसी इंसान के बारें में आप से पूँछ रही हूँ, जो कम से कम पिछले 1 साल से इस चैनल से जुड़ा हो और उसने “S P SINGH SIR” के द्वारा बताया हुआ काम किया हो और उसकी महीने की इनकम 1 लाख रुपये से कम हो | यानी कि ऐसा कोई व्यक्ति, बच्चा, लड़की, महिला या कोई और जिसने भी, SPL LIVE LEARNING चैनल को 1 साल पहले सब्सक्राइब किया हो और “S P SINGH SIR” द्वारा बताया हुआ काम पूरा किया हो | यानी कि इस चैनल की सभी विडियो को देखा हो और उनमें बताया हुआ काम पूरा किया हो और उन्हें लायक करके शेयर किया हो और हर दिन अपना कोई 5 या 10 मिनट का विडियो इस चैनल को बनाकर भेजा हो | यानी की पिछले 1 साल में कम से कम 1 विडियो रोज के हिसाब से 365 विडियो भेजे हो |

अब सवाल है – कैसे विडियो ? तो आपको केबल अपने खुद के विडियो बनाने है | वो भी अपने मोबाइल से, चाहे कैसा भी विडियो हो, जो आप अपने मोबाइल से बना सकों | और जो देखने वाले लोगो को अच्छा लगे बस | जैसे मैंने ये विडियो बनाया है और मैं इस चैनल के लिए हर दिन 25 मिनट विडियो ही बनाती हूँ यानी कि हर दिन 5 से 6 विडियो बनाती हूँ जिसमें से मेरी कभी कभी 1 विडियो तो अपलोड हो ही जाती है | और उसी का मुझे हर महीने 5 लाख रुपये से ज्यादा मिलता है | तो क्या कोई ऐसा इन्सान है ? जिसने “S P SINGH SIR” की बातों को माना हो और इस चैनल के साथ पूरे साल में कम से कम 30 घंटे काम किया हो और उसको 1 लाख या उससे ज्यादा पैसा हर महीने नहीं मिल रहा हो |
अगर आप ऐसा कोई इंसान बताते है तो आपको मिलेगा 1 लाख रुपये |

तो जल्दी से खोजिये ऐसे किसी इंसान को जिसकी उम्र 5 साल से लेकर 100 साल के बीच में हो और जिसने इस चैनल SPL LIVE LEARNING को 1 साल पहले सब्सक्राइब किया हो और “S P SINGH SIR” के द्वारा बताया हुआ काम अपने मोबाइल से किया हो | अगर मिल जाए तो उसका नाम इस विडियो के कमेंट में लिख दीजिये और आपको मिल जाएगा 1 लाख रुपये | 100% गारंटी के साथ | मैं खुद आपको अपने अकाउंट से दूंगी |

लेकिन ऐसा इंसान मुझे तो कोई मिला नहीं और मुझे पूर्ण विश्वाश ही नहीं बल्कि यकीन है | आपको भी नहीं मिलेगा, क्योंकि ऐसा हो ही नहीं सकता है, कि “S P SINGH SIR” की कोई बात माने और उसकी इनकम 1 साल के बाद भी 1 लाख रुपये महीने से ज्यादा ना हो |
तो दोस्तों अगर ऐसा कोई इन्सान नहीं है, जिसने “S P SINGH SIR” की बात मानी है और उसकी इनकम 1 लाख से कम है तो फिर आप क्या सोच रहे है | आप भी आज से ही इस चैनल के साथ काम करना शुरू कर दीजिये और कमाईये हर महिना 1 लाख या उससे ज्यादा | तो तुरंत इस विडियो का डिस्क्रिप्शन चेक कीजिये और उसमें एक लिंक दिया हुआ है “अमीर कैसे बनें फुल गाइड” | प्लेलिस्ट की सभी विडियो को पूरा पूरा देखिये और सीख लीजिये हर महिना 1 लाख या उससे ज्यादा कमाना | वो भी अपने मोबाइल फोन से घर बैठे – बैठे | तो शुरूआत कीजिये इस विडियो से, जल्दी से इस विडियो को लाइक करके अपने सभी दोस्तों के साथ शेयर कीजिये और चैनल को सब्सक्राइब करके बेल आइकॉन को दबा दीजिये जिससे प्रत्येक विडियो का नोटिफिकेशन आपको मिलता रहे | मैं मिलूंगी अपनी नेक्स्ट विडियो में जब तक के लिए बाय – बाय !

Writer : Mansi Gupta

S P SINGH SIR के बारे में पूरी जानकारी और उनका जीवन संघर्ष ! SP SINGH FULL BIOGRAPHY !

जैसा की आप सभी जानते है “स्पेशल चाइल्ड वेलफेयर आर्गेनाइजेशन” जो गरीब, बेरोजगार और बेसहारा लोगों के लिए काम करती है और जो भी व्यक्ति इस संस्था से एक बार जुड़ जाता है और इस संस्था के अकोर्डिंग काम करता है | तो उस व्यक्ति को मेहनत बहुत कम करनी पड़ेगी और पैसा और नाम बहुत अच्छा कमा सकता है !! इसी बजह से आज इस संस्था के साथ बहुत कम समय में 40 लाख से ज्यादा लोग जुड़ चुके है | जो ऑनलाइन और ऑफलाइन अनेकों प्रकार से संस्था से जुड़ें हुए है !!
इस संस्था के संस्थापक श्री सत्यपाल सिंह जी का कहना है की वो इस संस्था से जुड़ने वाले प्रत्येक व्यक्ति को इस काबिल बना देंगे की उसको अपने जीवन में कभी पैसे की कमी नहीं होगी यानी कि उनका कहना है , कि वो इस संस्था से जुड़ने वाले सभी लोगों के लिए ऐसे रोजगार के साधन विकिसित करने का प्रयास कर रहें हैं, जिनमें मेहनत कम और इनकम ज्यादा हो !! उनके पास इस प्रकार के लगभग 4500 ऐसे कार्यों की सूची है जिनपर ज्यादातर भारतीय ध्यान ही नहीं देते है और वो सभी काम हमारे देश में अंग्रेजों के द्वारा किये जाते है | यही कारण है की हमारे देश की ज्यादातर इनकम विदेश में जाती है और हम सिर्फ अपने भाग्य को कोसते रह जाते है, कि ये सब हमारे भाग्य में नहीं है, हमारी किस्मत ख़राब है, हमें भगवान ने इस लायक नहीं बनाया, कि हम भी अमीर बन सकें और अपने सपनों को सच कर सकें !!
S P SINGH SIR का मानना है, कि ऐसी बातें जानवरों को तो सोभा देती है, क्योंकि उनके पास दिमाग नहीं होता है | लेकिन अगर ऐसी बातें कोई इंसान करें तो ये अच्छी बात नहीं है !!
S P SINGH SIR का मिशन हैं देश से बेरोजगारी नाम की बीमारी को हमेशा के लिए ख़त्म कर देना और सभी के सहयोग से ऐसे नये भविष्य का निर्माण करना जिसमें हर व्यक्ति को अपने सपनों को सच करने की आजादी हो, अपने जीवन को मायूस होकर ना कोई गुजारे और किसी अनाथ को कभी ये ना लगे की में अनाथ हूँ, किसी बेरोजगार को ये ना लगे की में बेरोजगार हूँ, किसी बृद्ध की आखों में इस बात के लिए आंसू ना हो की उसका कोई ख्याल रखने वाला नहीं है !!

इससे पहले की मैं, S P SINGH SIR के समाज कल्याण के मिशन के बारे में बताऊँ, उससे पहले कुछ बातें में आपको S P SINGH SIR के बारे में बता दूं की उन्होंने अपने जीवन में अभी तक, इतनी छोटी सी उम्र में क्या – क्या कर लिया है !!
वैसे तो उनके जीवन के पिछले 10 साल के क्रिया कलापों को विस्तार से बताने में मुझे कम से कम 1 महीने का समय लगेगा लेकिन में यहाँ आपको केबल शोर्ट में कुछ पॉइंट ही बताउंगी !! उसी से आप समझ सकते है कि वो कितने साहसी है |

S P SINGH SIR का जन्म 10 जुलाई 1989 को जिला मथुरा, उत्तर प्रदेश के एक बेहद ही गरीब परिवार में हुआ था और उनके पिताजी एक छोटे किसान है ! घर में पैसे की परेशानी के चलते उनकी प्राथमिक शिक्षा कोई खास नहीं हुई !! प्राइमरी स्कूल से निकल कर उन्होंने अपना एडमिशन गवर्नमेंट के जूनियर हाई स्कूल में करा लिया और यही पर उन्होंने पहली बार A B C D और हिंदी और अंग्रेजी की किताब पढ़ना सीखा, और इसी दौरान वो अपने पिताजी के साथ खेती में काम भी किया करते थे |
और घर पर पशु व भैसों का भी काम करते थे | कक्षा 6 से लेकर 8 वीं पास करने तक उन्होंने उस दौर की सबसे हाई डिमांड को ध्यान में रखते हुए, गाँव में बजने वाले डेग और रेडियो के स्पीकर व रेडियो, डेग, ब्लैक एंड वाइट टीवी सही करना सीखा और यही काम वो अपने घर पर करते थे | कक्षा आठ पास करने के बाद, इन्होंने खेत से डायरेक्ट लोगो के पास सब्जी पहुंचाने का काम शुरू किया अर्थात सब्जी बेचने का काम और अच्छी खासी इनकम की |
फिर से इन्होंने अपना एडमिशन 9 वीं कक्षा में करा लिया और अपनी पढ़ाई के खर्चें के लिए उन्होंने लोगो के मथुरा तहसील से ( जो की उनके घर से 50 किलो मीटर की दूरी पर थी ) लोगो के जरूरी कागजात बनबाने का काम शुरू किया और वो सप्ताह में 2 दिन अपने घर से साईकिल द्वारा तहसील जाते थे जहाँ से वे लोगो के जाति, आय और निवास प्रमाण प्रत्र आदि बनबाते थे | इसी दौरान उन्होंने अपने घर पर एक और काम किया जो रेशन उत्पादन का था और ये काम इतना मुस्किल होता है कि कोई भी इसमें ज्यादा अच्छी परफॉरमेंस नहीं कर पाता है, फिर भी S P SINGH SIR ने इस काम को सबसे श्रेष्ठ किया और रेशम विभाग द्वारा, अपने द्वारा उत्पादित रेशम मूल्य के अलावा उस सेंटर में सबसे अधिक रेशन का उत्पादन करने का ईनाम भी लिया जो की 10000 रुपये था |

इसके बाद इन्होने डीजन इंजन सही करने का काम किया और डीजन इंजन से I T I की पढ़ाई के लिए एडमिशन भी लेलिया | किसी कारणवश इनको ये काम अच्छा नहीं लगा तो फिर से कक्षा 11 वीं में अपना एडमिशन लेलिया और उसी कॉलेज में बिना पूर्व कंप्यूटर ज्ञान के वहा कंप्यूटर के टीचर बनें, क्योंकि इनको एडवांस टेक्नोलॉजी का पहले से ही शौक था तो इन्होने कंप्यूटर सीखने के लिए दिन के 1 बजे से अपनी कोचिंग लगाई और 2 बजे से ये खुद पढ़ाते थे | यानी की कंप्यूटर सीख भी रहे थे और सीखा भी रहे थे और 11 वीं कक्षा की पढ़ाई भी कर रहे थे | और साथ में अपने पिताजी के साथ खेती का भी काम करना पड़ता था |

वही कंप्यूटर सेंटर पर किसी ने इन्हें उर्दू भाषा के विषय में जानकारी दी तो इन्होने उर्दू से दोबारा हाई स्कूल (प्राइवेट) का फॉर्म भर दिया और उर्दू, अरबी, फारसी भाषा एक मोलवी से हर दिन शाम को सीखने किसी मस्जिद में जाया करते थे | जहाँ इन्होने मुस्लिम रीती रिवाजों के बारे में भी बहुत कुछ सीखा |

कक्षा 11 वीं के बाद इनकी नौकरी भारतीय रेलवे में लगी और इनकी पोस्टिंग गाज़ियाबाद में हुई और इनको रेलवे लाइन पर काम करना पड़ता था तो इनको ये नौकरी अच्छी नहीं लगी और छोड़कर फिर से 12 वीं कक्षा में पढ़ना शुरू कर दिया |
इस दौरान इन्होने फिर से कंप्यूटर सेंटर को चलाया और स्टूडेंट्स को कंप्यूटर की एडवांस जानकारी सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर के बारें में भी सिखाया और तमाम अपने घर के रोजमर्या के कार्य और खेती से संबधित काम भी किया करते थे |

12 वीं की छुट्टियों के बाद इन्होने दिल्ली से सीडी, वीसीडी, डेग, घड़ियाँ और तमाम चीजों की सप्लाई अपने लोकल बाजार में की, जिससे इन्होने अपनी आगे की पढ़ाई के लिए अच्छा खासा पैसा कमा लिया और मथुरा के प्रसिद्ध BSA कॉलेज में कंप्यूटर की एडवांस पढ़ाई के लिए Bachelor of Computer Science में अपना एडमिशन ले लिया और मथुरा शहर में ही किराये पर रहेने लगे | जहाँ इन्होने बच्चों को गणित और कंप्यूटर की कोचिंग दी और फ्री समय में इन्होने एक फोटो स्टूडियो पर काम कर लिया | जहाँ से इन्होने फोटो और विडियो एडिटिंग सीखा और शादी – पार्टियों में विडियो ग्राफी करने भी जाते थे | और इसी साल इन्होने उर्दू से इंटरमीडिएट भी कर लिया |
यहीं पर पहली बार इन्होने समाज सेवा के लिए अपना नाम दर्ज कराया और पूरे 2 साल तक समाज सेवा का कोर्स पूरा किया | जिसमें उन्होंने पूरे मथुरा-वृन्दावन में घूम-घूम कर लोगो को समाज सेवा के लिए जागरूक किया और मथुरा के सबसे बड़े मंदिर श्री गिर्राज जी महाराज में 15 दिन के लिए महंत भी बने, जहाँ से इन्होने तमाम हिन्दू धर्म की रीति रिवाजो को भी सीखा और सही पूजा – पाठ कैसे होता है की शिक्षा भी प्राप्त की |
समाज सेवा और देश सेवा का इनके सर पर ऐसा भूत सवार हुआ की इन्होने इंडियन आर्मी की 2 वर्षीय ट्रेनिंग को ज्वाइन कर लिया और भारतीय सेना से तमाम नियम क़ानून और हर प्रकार के हतियार चलाना सीखा और अंत में निशाने वाजी में मैडल भी प्राप्त किया | और इसी दौरान इनकी नौकरी विधुत विभाग मथुरा में लग गयी | लेकिन इनको नौकरी से ज्यादा शौक नई -नई टेक्नोलॉजी को जानने का था तो इन्होने अपनी नौकरी छोड़ दी और अपनी ग्रेजुएशन यानि की बेच्लोर ऑफ़ कंप्यूटर साइंस की पढ़ाई को पूरा करना उचित समझा और यह वह समय था जब इनकी ग्रेजुएशन यानि की बेच्लोर ऑफ़ कंप्यूटर साइंस का अंतिम साल था और इनको कॉलेज से ही कैंपस सिलेक्शन के द्वारा स्पाइस मोबाइल कंपनी में नौकरी मिल गयी, लेकिन इस नौकरी को भी कुछ दिन करने के बाद छोड़ दिया और अपनी खुद की सॉफ्टवेयर कंपनी नॉएडा में ही खोल ली |
इनकी कंपनी अच्छी चल रही थी की तभी इनका नम्बर बैंक में आया और ये फिर से मथुरा वापिस आगये और बैंक में नौकरी करने लगे | बैंक की नौकरी को 1 साल पूरा हुआ ही था कि इनके दिमाग में विचार आया क्यों ना अपना खुद का बैंक खोल लिया जाए तो ज्यादा अच्छा रहेगा | यहाँ जीवन भर नौकरी करने से कुछ हासिल होने वाला नहीं है और इन्होने बैंक की नौकरी छोड़ दी और अपनी खुद की बैंक खोलने के लिए प्रयास शुरू कर दिया | और फिर से नॉएडा पहुँच गए जहाँ इन्होने फाइनेंस सेक्टर में काम करने की पूरी जानकारी के लिए देश की जानी मानी बड़ी बड़ी कंपनियों में मेनेजर के पद पर काम किया जैसे इंडिया इन्फोलाइन, SMC एकुएटी और फण्ड , श्रीधर ब्रोकिंग, पायोनिअर फाइनेंस सर्विस और इन कंपनियों से जानकारी हासिल करने के बाद अपनी खुद की नॉएडा सेक्टर 18 में एक ब्रोकिंग कंपनी खोल ली यानी की अपनी खुद की बैंक जिसमें लगभग 60 कर्मचारी कार्य करते थे |

अभी S P SINGH SIR की बैंक को 1 साल पूरा होने ही बाला था कि तभी भारत सरकार के विभाग I R D A और S E B I की तरफ से सभी प्राइवेट कंपनियों के लिए नये गाइड लाइन जारी किये गए की, सभी प्राइवेट फाइनेंस कंपनियों को 500 करोड़ रुपये की सिक्यूरिटी मनी जमा करनी होगी तभी आप अपनी कंपनी चला सकते है अन्यथा तुरंत अपनी कंपनी को बंद कर सभी का हिसाब क्लियर करें | किसी भी शिकायत और अन्यथा की स्तिथि में कानूनी कार्यवाही की जायेगी | अब इनके पास 500 करोड़ रुपये न होने की स्तिथि में अपनी कंपनी को बंद करना पड़ा और सभी कर्मचारियों को 3 महीने तक का एडवांस वेतन भी देना पड़ा | इसकी बजह से इनको बहुत ही नुकसान हुआ | लेकिन इन्होने यहाँ भी हार नहीं मानी और एक बार फिर से इन्होने अपनी किस्मत को इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रोनिक्स के फील्ड में लगाया और एक नई कंपनी SPL ECO SMART PRIVATE LIMITED. खोल ली और ATS और L and T जैसी देश की बड़ी – बड़ी कंपनियों को अपनी सर्विस देने लगे जिसमें इनका काम बड़े-बड़े ट्रांस्फार्म्स और कंपनियों में लाइट की सर्विस देना था |
यही पर इनके मन में एक नये विचार ने जन्म लिया कि हमारे पास हमारी खुद की कंपनी है और हमारे पास अपने कर्मचारी भी है और हम काम दूसरी कंपनी के प्रोडक्ट्स पर करते है | क्यों ना अपना खुद का ही प्रोडक्ट निकाला जाये | जिससे अपना नाम भी होगा और अपनी कंपनी का नाम भी बढेगा | बस फिर क्या था जहाँ नया विचार आया तो दूसरी तरफ काम शुरू हो गया | उसी समय दिल्ली के प्रगति मैदान में इलेक्ट्रॉनिक्स और इलेक्ट्रिकल कंपनियों की प्रदर्शनी लगी थी | जिसमें सभी इलेक्ट्रॉनिक्स या इलेक्ट्रिकल कंपनी ओनर्स को आमंत्रित किया गया था | तो S P SINGH SIR भी उस प्रदर्शनी में अपनी कंपनी की तरफ से गए और वही पर इनकी मुलाकात एक चाइना की कंपनी से हुयी और इन्होने उस समय की हाई डिमांड L E D लाइट Manufacturing का काम अपनी कंपनी में शुरू कर दिया और पूरे देश में अपनी कंपनी की लाइट सप्लाई करने लगे |
अभी एक साल पूरा होने ही वाला था की तभी मोदी सरकार ने L E D लाइट को सस्ता कर दिया और इनकी कंपनी के प्रोडक्ट की डिमांड उसकी लागत कीमत से भी कम होने लगी और सभी कर्मचारियों में कंपनी को लेकर तमाम तरह की बाते शुरू हो गयी की अब ये कंपनी बंद होगी या चलेगी बहुत सारा माल स्टोक में पड़ा था | बाजर में माल की सप्लाई रुक चुकी थी | यह S P SINGH SIR के जीवन का सबसे बूरा दिन था | क्योंकि इतना बड़ा घाटा कंपनी को हुआ कि कम्पनी को फिर से उठाने के लिए कम से कम 50 लाख रुपये की जरूरत थी, लेकिन पूरा पैसा जो भी अब तक कमाया था वो तो कंपनी में लग चूका था | लेकिन S P SINGH SIR ने यहाँ भी हार नहीं मानी और कम्पनी के कर्मचारियों को निराश नहीं किया | अपनी कंपनी के सभी कर्मचारियों को अपनी जानकारी से दूसरी कंपनी में लगा दिया और अपना माल भी उसी कंपनी को दे दिया | और 16 लाख रुपये के कर्ज के साथ अपने घर वापिस आगये | S P SINGH SIR सर का व्यवहार अपने कर्मचारियों और तमाम बैंक के साथ बहुत ही अच्छा रहा था | इस बजह से इनको ज्यादा परेशानी नहीं हुयी और बैंक ने भी इनके ऊपर विश्वास किया और कोई कानूनी कारवाही नहीं की और कर्ज चुकाने के लिए 1 साल का समय दे दिया |
S P SINGH SIR के जीवन में ये वो दिन थे जब इनको कुछ भी दिखाई नहीं देता था और इनके घर वाले इनके ऊपर निगरानी रखते थे की कोई उल्टा सीदा काम ना हो जाए |
S P SINGH SIR के जीवन की एक सबसे अच्छी बात ये थी की इन्होने कभी अपनी पढ़ाई बंद नहीं की | और जितने दिन इन्होने नॉएडा में अपनी कम्पनियां चलाई उस दौरान भी इन्होने तमाम इंस्टिट्यूट से बिज़नस संबधी पढ़ाई की जिससे ये अपने बिज़नेस को अच्छा कर पाये और अपना और अपनी कम्पनी का नाम पूरे देश में फैला सकें | इतना बड़ा नुक्सान होने के बाद भी कभी इन्होने किसी से ये नहीं कहा की मेरे ऊपर कोई कर्ज है या फिर में ये कर्ज दे नहीं सकता हूँ, क्योंक S P SINGH SIR को पैसे कमाना तो शुरू से ही आता है, लेकिन दुःख इस बात का था की इतनी बड़ी कंपनी बनाने में इन्होने जो मेहनत की, और वे इस कंपनी को ज्यादा दूर तक नहीं ले जापाये | अब इन्होने कुछ दिन के लिए अपने मन को शांत किया और फिर से अपने ऊपर हुए कर्जे को समाप्त करने के लिए | मथुरा शहर के लोकल बिज़नस मेन्स के साथ अपने विश्वस्तरीय विचारों को रखा तो वे इनके साथ काम करने के लिए राजी हो गये और S P SINGH SIR ने मथुरा में तमाम लोगो के साथ उनके बिज़नेस में पार्टनरशिप की और कई नये बिज़नेस की शुरू आत की और बहुत कम समय में अपने सभी बिज़नेस पार्टनर्स को अच्छा फायदा दिया और अपना पूरा कर्ज बहुत कम समय मात्र 3 महीने में ही समाप्त कर दिया और एक दम फ्री हो गए |
अब इनके जीवन में कोई कमी नहीं थी सब काम सही चल रहे थे | इस प्रकार S P SINGH SIR ने अपने जीवन में 7 प्राइवेट लिमिटेड कंपनी खोली है और उनमें से ज्यादातर चल रही है जो इनके पार्टनर संभाल रहे है और अब ये उन सभी कम्पनियों में सिर्फ अपना मार्गदर्शन देते है |
अब यहाँ से इनके मन में फिर से समाज के लिए कुछ बड़ा काम करने का विचार आया | ऐसा कुछ करने का, की पूरी दुनियां में अपनी एक अलग पहचान बना सकें | इस दौरान इन्होने मथुरा में कुछ अनाथ बचें और परेशान बृद्ध देखें और इनकी समाज सेवा की भावना बहुत तेजी से जागृत हो गई और इन्होने जब उन परेशान, अनाथ और बृद्ध लोगों के बारें में जानकारी की तो सबसे बड़ी समस्या थी पैसे की कमी और लोगो के पास रोजगार नहीं है, नौकरी नहीं है जिस बजह से वे ना तो किसी की सहायता ही कर पाते है और ना ही अपने जीवन का सपना ही पूरा कर पाते हैं | यहाँ पर S P SINGH SIR ने इस समस्या का कोई सही समाधान निकालने का निर्णय लिया | ऐसा कुछ करने का निर्णय लिया की समाज की सेवा भी हो जाए, अनाथ लोगो को उनके सपने सच करने की जगह मिल जाये और बेरोजगार लोगो को रोजगार मिल जाए | और अपने तमाम एक्सपीरियंस के आधार पर लगातार छान बीन करके लगभग 4500 ऐसे कार्यों की लिस्ट तैयार की जिन्हें अगर देश में लागू कर दिया जाए तो लगभग देश के प्रत्येक नागरिक को रोजगार भी मिल जायेगा और साथ ही एक ऐसी संस्था बनाई जाये जिसमें अनाथ बच्चों को और बृद्ध लोगो को रहने की जगह मिल जाये | अब समस्या ये थी की इतना बड़ा काम करने के लिए तो करोड़ों रुपये की जरूरत पड़ेगी | तो इन्होने इसका भी तोड़ निकाल लिया | और इसका समाधान था crowdfunding | फिर इन्होने crowdfunding के लिए प्लेटफोर्म की तलास की | अगर हम crowdfunding करते है तो कैसे की जा सकती है | यही पर इन्होने लगभग पाँच दिन सोचने के बाद एक नया नाम इनके मन में आया और वो था अपनी संस्था “स्पेशल चाइल्ड वेलफेयर आर्गेनाइजेशन” का नाम | यहीं से इन्होने यह निर्णय लिया की पैसे कमाने के लिए तो बहुत काम कर लिए अब अपना नाम कमाने के लिए कुछ ऐसा काम करना है जिसे मेरे मरने के बाद भी लोग याद रखें और खुद को पूरी तरह से समाज सेवा के लिए समर्पित कर दिया | और कठोर संकल्प किया की अब मुझे सिर्फ और सिर्फ ज्यादा से ज्यादा लोगो का सहयोग करना है | एक ऐसे संसथान का निर्माण करना है | अगर कोई हमारी संस्था से जुड़ा है चाहे वो कोई गरीब या अनाथ बच्चा हो या बृद्ध या फिर कोई बेरोजगार सभी के लिए खुशियों के दरबाजे हमेशा खुले हो | और जो भी “स्पेशल चाइल्ड वेलफेयर आर्गेनाइजेशन को सपोर्ट करेगा उसके जीवन में सिर्फ खुशियाँ ही खुशियाँ होंगी | अब ऐसा बड़ा N G O तो खोला जा सकता है लेकिन इसके लिए प्रत्येक स्टेट से कम से कम 150 लोग होने चाहिए तभी इसको पूरे देश में संचालित किया जा सकता है और तभी पूरे देश भर में डिस्ट्रिक्ट लेवल पर ऑफिस और संस्था का सेंटर जिसमें अनाथ बच्चों का पालन पोषण किया जाये, उनकी पढ़ाई-लिखाई की व्यवस्ता की जा सकें | आदि को खोला जा सकता है |
इसके लिए इन्होने इन्टरनेट का सहारा लिए और एक YouTube Channel बनाया “SPL लाइव LEARNING” और इसी चैनल के नाम से अपने मिशन की शुरुआत की और लगातार अपने कठिन प्रयासों के माध्यम से लोगो को अपने चैनल के साथ जोड़ना शुरू कर दिया | और 2 महीने बाद अपनी संस्था के बारें में लोगो को बताना शुरू कर दिया | और लगातार 1 साल तक लोगो में आत्म विश्वास जगाया की आप लोग मेरे साथ इस संस्था में सामिल हो जाओ और हम बहुत आगे तक इस संस्था को लेकर जायेगे और ये देश का पहला और एक मात्र ऐसा N G O होगा जिससे जुड़ने वाले लोगो को रोजगार, पैसा और सम्मान सभी को बरावर मिलेगा | हालाँकि इनके पास ऐसे बहुत से लोग थे जो इस संस्था में एक साथ बहुत सारा पैसा लगा सकते थे | लेकिन इन्होने ऐसा नहीं किया और 1 फरबरी 2018 से इन्होने अपनी संस्था के मेम्बर और पार्टनर बनाना शुरू कर दिया और प्रत्येक व्यक्ति से मेम्बर बनने की फीस 1 रुपये रखी, और संस्था में पार्टनर बनने के लिए मात्र 10 रुपये और कोई भी व्यक्ति अधिकतम 110 रुपये ही उस समय दे सकता था | क्योंकि S P SINGH SIR ज्यादा से ज्यादा लोगो को अपने साथ जोड़ना चाहते थे | लेकिन ज्यादातर लोगो ने विश्वास नहीं किया | क्योंकि लोगो को लगा की जो व्यक्ति सिर्फ एक रुपये में मेम्बर बना रहा है वो संस्था क्या कर पायेगी | लेकिन 1 रूपया लेने का उद्धेश्य लोगो से पैसे लेने का नहीं था बल्कि उनको एक मेम्बरशिप स्लिप या नंबर देने का था | और ये काम 1 रूपया लेने से बहुत ही आसान हो गया की जो भी व्यक्ति एक रुपया भी ऑनलाइन देगा तो उसके पास एक ट्रांजक्शन नम्बर जरूर जनरेट होगा और वही नंबर हमारे पास भी तो बड़ी आसानी से लोगो की मेम्बरशिप को कन्फर्म किया जा सकता है !
S P SINGH SIR के तमाम प्रयासों के जबाब में 1 महीने के अन्दर देश भर से अनेकों लोगो ने संस्था में अपना रजिस्ट्रेशन करा लिया और S P SINGH SIR ने सभी मेम्बेर्स की डिटेल के साथ अपना प्रस्ताव भारत सरकार के सामने रखा और वे अपने इस काम में सफल भी हुए | भारत सरकार ने इनका प्रार्थना पत्र स्वीकार कर लिया और 16 मई 2018 को संस्था को ” भारतीय संबिधान के अधिनियम संख्या 21, 1860 के अधीन रजिस्ट्रीकृत कर कानूनी तौर पर मान्यता प्रदान की |

जैसे ही संस्था को मान्यता प्राप्त हुयी | बिना कोई देर किये सबसे पहले संस्था के लिए जगह खरीदी और अपनी संस्था के ऑफिस और सेंटर का काम शुरू कर तमाम कार्यों में बिना किसी स्वार्थ के लगातार प्रयास रत है और संस्था के रजिस्ट्रेशन के मात्र 4 महीने के अन्दर संस्था से 40 लाख से अधिक लोगो को जोड़ा जा चूका है जो अपने आप में एक बहुत बड़ा रिकॉर्ड है | तो दोस्तों आज की विडियो में बस इतना ही आगे के क्रिया कलाप फिर किसी दिन जब तक के लिए आपका धन्यवाद |

 

लेखक : मंसी गुप्ता