डिअर कामयाबी (dear success)

युँही नहीं आए हैं इस दुनिया मे

             ना युँही जाऐंगे।

तू लाख बिछादे कांटे राह में

पार कर जाएंगे।

तुझे पाना जुनून हैं मेरा

और पाकर ही मानेंगे।

हैं इतनी सिद्धत मेरी मोहबबत में

कि हासिल कर जाएंगे।

उठें वहीं जो गिरना जाने

श्वप्रयास से ही तो संभल पाऐंगे।

कब तक दूर भागेगी मुझसे ऐ जानेमन,

मेरी सिद्दत से तुझे खिंच लाऐंगे।

न जाने कितना फासला है और तेरे मेरे दरमियान

हर फासला पार कर जाएंगे ।

युँही नहीं आए हैं इस दुनिया में

ना युँही जाएंगे ।

लाख बिछादे कांटे राह में

पार कर जाएंगे।